About

Welcome

Independent Translator, Editor and Localization Professional – More than 12 years of translation, editing, and transcription and proofreading experience – Versatile experiences of dealing with all type of texts: worked as a reporter/copy-editor/assistant editor with main stream Indian Hindi media; translated and edited millions of words; edited around 50 books and transcribed hundreds of audio files – Life Member of prestigious Linguistic Society of India – Member of Unicode – Prestigious professional degree of journalism Post Graduate Diploma in Hindi journalism from IIMC, New Delhi – I believe that during translation we should try to recreate the source into the target aesthetically.

I have translated approximately three million words, edited three million words, transcription of around one million words till date. I never missed any deadline in my 12 years career.

I am working with some more than fifty LSPs and translation agencies. I have translated some Microsoft’s and Google’s softwares in Hindi. Last year I got one prestigious Sarai FLOSS fellowship for translation.

Apart from these, I am working for Osho International Foundation for Editing Hindi books of Shri Rajnish. I have edited 20 books. I am having extensive journalistic experience with several National Hindi Daily and portal of India. I worked with Dainik Bhaskar, Literate World, Hans, Aajtak, and also worked with some publishers of Hindi. This helps me in great way to translate all type of text.

IT (Information Technology), Internet, Computers, Telecoms, Games, Software, Media Multimedia, General, Conversation, Greetings, Letters, Brochure, Advertisement, History, Political Science, Social Science, Sociology, Ethics, Law (general), Tourism & Travel, Medical are domains where I have worked extensively.

It makes my life easy that language is not only my profession, it is my passion and hobby as well. I run an website www.literatureindia.com, a comprehensive cultural portal of India and it aims to have all information and news related to Indian cultural panorama. Along with this portal, I have started www.bhashaghar.in that aims to create an space for languages that can enable even a small language to be digitally advanced.

Want to know more about me, Please continue browsing here.

  • RSS Bhasha Ghar

    • Maithili is not only a language, it is also a source of rich wisdom – Mr. Ajay Kumar Jha
      Mozilla Firefox Maithili Workshop Report May 2013On 29th May 2013, Mozilla Firefox Maithili workshop was organized by community of Maithili Computer developer working under Bhasha Ghar, a group of volunteers working for small languages having less resources. Mozilla Firefox Maithili workshop was a full day workshop where the community working with Mozilla al […]
    • जाना-माना फ़ायरफ़ॉक्स ब्राउज़र अब मैथिली में उपलब्ध
      जाना-माना फ़ायरफ़ॉक्स ब्राउज़र अब मैथिली भाषा में रिलीज कर दिया गया है। इसके पहले तक यह ब्राउज़र बीटा टेस्टिंग संस्करण में उपलब्ध था और इसे अब विधिवत् व आधिकारिक रूप से मोज़िल्ला ने मैथिली के प्रयोक्ताओं के लिए जारी कर दिया है। सन् 2000 के मुताबिक कुल मैथिली भाषी लोगों की संख्या करीब साढ़े तीन करोड़ है और ये सभी अपनी भाषा में इंटरनेट ब्राउज़िंग का आनंद ले सक […]
    • नामवरजी से लंबी बातचीत
      सात-आठ साल पहले नामवरजी के साथ हुई बातचीत काफी लंबी चली थी...उन्होंने धर्म, साहित्य और राजनीति के अतर्संबंधों पर खुलकर बातें की थी. कुछ अंश देखिए...सही कहा कि हर दौर का अपना एक राम होता है. और यह बदलता रहा है. कबीर के लिए निर्गुण-निराकार राम था, तुलसी के लिए अवतार का राम था, गांधी ने रामराज्य की कल्पना की थी परंतु गांधी का रामराज्य अलग था, तुलसी का अलग. इस द […]
    • चिदम्बरम साहब, अपने मंत्रालय की हिंदी सुधारिए
      पी चिदम्बरम साहब के भाव-विभोर कर देने वाले संदेश को पढ़ने के बाद अगर आप गृह मंत्रालय की हिन्दी साइट को देखें, तो शुरुआत ही उनकी और उनके मंत्रालय यानी गृह मंत्रालय की हिन्दी के प्रति निष्ठा का आभास होना शुरू हो जाएगा. आपको क्लिक करना होगा...'हिन्दी मे'. और फिर शुरू होगी एक ऐसी पीड़ा जिसका अंदाजा लगाना मुश्किल काम होगा.  देखिए यहाँ. […]
    • राजेन्द्र यादव और मन्नू भंडारी की पारिवारिक तस्वीरें
      राजेन्द्र यादव और मन्नू भंडारी ऐसी शख्सियत हैं जिन्हें हिन्दी साहित्य से थोड़ा भी सरोकार रखने वाला शायद हर व्यक्ति जानता होगा. हाल ही में राजेन्द्र जी ने अस्सी को पार किया है. मैं जब दिल्ली में बतौर पत्रकार काम करती थी तो संस्कृति जगत की कई जानी-मानी हस्तियों को करीब से देखने का सौभाग्य मिला था. हम लिटरेचर इंडिया पर राजेन्द्रजी और मन्नूजी और उनके परिवार की क […]